3.6
(5)

हिंदी के अति महत्वपूर्ण पर्यायवाची शब्दों का संकलन जो आपकी मुख्य परीक्षा पेपर 5 सूबेदार, पटवारी, व्यापम, ग्रामीण बैंक आदि परीक्षा में उपयोगी।  (Mains Paper 5, Sub Inspector, Patwari, Vyapam, Railway, RRB Bank etc. exam)

महत्वपूर्ण पर्यायवाची शब्द

सुबोध – बोधगम्य, सुगम, सूस्पष्ट, सरल

हिम्मत- सहस, उत्साह, दिलेर

प्यार – मोहब्बत, स्नेह, प्रेम, प्रीत, अनुराग

धनुष – कमान, चाप, शरासन, पिनांक

हार – पराजय, पराभव, शिकस्त

हिस्सा – भाग, अंश, खंड, अंग, टुकड़ा

टककर – ठोकर, भिड़त, धक्का

झंडा – पताका, ध्वज, निशान, केतु, केतन

चंदन – तमाल, मलयज, संदल, गंधसार

संवाद – बातचीत, वार्तालाप, संभाषण

गीदड़ – सियार, श्रृंगाल, जंबूक

हीन- रहित, रिक्त, शुन्य, खाली, वंचित

घर – गृह, सदन, निकेतन, धाम, निवासी, स्थान

झरोखा – वातायन, गवाक्ष, रोशनदान

सूखा – शुष्क, रुखा, रुक्ष

फुहार – झींसी, सीकर, जलकण, वारीकण

झुंड – समूह, गिराह, जत्था, पुंज, मंडली, यूथ, दल

सभ्यता – शिष्टता, शिष्टाचार, भद्रता, सुशीलता

अनाड़ी – अदक्ष, अकुशल, अनभयस्त, अपटु

हेतु – कारण, उद्देश्य, मतलब, आशय

खोज – अन्वेषण, गवेषण, अनुसंधान, शोध

चोटी – शिखर, परकोटि, तुंग, शिरोबिंदु

सूचक – बोधक, द्योतक, ज्ञापक

झोपड़ी – पर्णकुटी, कूटी, कुंज, मडवा, कुटिया

पानी – जल, नीर, सलील, वारी, अंबु, उदक, पय

हवा – पवन, वायु, समीर, अनिल

स्पष्ट – प्रकट, साफ, व्यक्त, प्रत्यक्ष, जाहिर

जासूस – गुप्तचर, चर, भेदिया

समर्थन – मंडन, अनुमोदन, पक्षपोषण, पृष्ठपोषण

इंद्र- शक्र, सुरपति, देवराज, पुरंदर, शचिपति, अमरपति, देवेश, सुरेश

अप्सरा – देवांगना, सुरबाला, दिव्यांगना, सुरसुंदरी, देवबाला

हाथ – कर, हस्त, पाणी

स्वर्ण – सोना, सुवर्ण, कंचन, कनक, हेम, हिरण्य, चामीकर

कहानी- कथा, वृतांत, इतिवृत्त, किस्सा, आख्यान

पराधीन – अधीन, आश्रित, निर्भर, पराश्रित

जिद्दी- हठी, दुराग्रही, दुर्द्रांत, धृष्ट

खूनी- हत्यारा, कातिल, प्राणघातक, हिंसक, जानलेवा

सूर्य- भास्कर, दिवाकर, भानु,, दिनकर, रवि, आदित्य, मार्तंड

टपकना – चुना, रिसना, झरना

जीभ – जिह्वा, अंतकरण, जबान

आंख – नेत्र, नयन, लोचन, विलोचन, चक्षु, अक्षि, प्रेक्षण, अंबक

सन्यासी- त्यागी, बैरागी, परिव्राजक, दंडी, विरत

तारीफ- प्रशंसा, सराहना, बढ़ाई, शलाघा

ऊंचा- उच्च, उत्तुंग, बुलंद, ऊपर, ऊर्ध्वं

खाद्य- भोज्य, आहार्य, भक्ष्य

शहद- मधु, मकरंद, पुष्परस

शत्रु – वैरी, दुश्मन, रिपु, अरि, अमित्र

घोड़ा – अश्व, हय, बाजि, तुरंग, घोटक, रविसूत, सैन्धव

आंगन- अँगना, अजिर, प्रांगण, बगर

विद्युत- बिजली, चपला, चंचला, तड़ित, दामिनी

सागर – समुद्र, सिंधु, रत्नाकर, जलधि, नदीश, पारावार

नाग- सर्प, भुजंग, व्याल, सांप, उरग, विषधर

तालाब- पुष्कर, पोखर, सरोवर, ताल, तडांग

समूह- गिरोह, वर्ग, मंडली, जत्था

शिखा- जूड़ा, चोटी, चुंडी

खाल- चर्म, चमड़ा, चमड़ी

इंद्रधनुष- धनुक, शक्रचाप, सुरचाप, धनु

गन्ना- रसद, ऊख, ईख, रसडंड, रसाल, पैंडी

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 3.6 / 5. Vote count: 5